GST Bill क्या है | GST full form| Types of GST | सभी जानकारियां हिंदी में

GST, GST kya hai, GST hindi

क्या आप जानना चाहते है GST (Goods and Services Tax) के बारे में: जैसे की GST क्या है, GST full form, Meaning of GST in Hindi इत्यादि तो बने रहिये हमारे साथ इस article में और पाये पूर्ण जानकारी.

जीएसटी क्या है? इसके बारे में पूरी जानकारी पढ़ें जहां पर ।

जीएसटी जब से लागू हुआ है , तो कई क्षेत्रों में इसके फायदे देखने को मिले हैं , तो कहीं पर इसके नुकसान भी लोगों को देखने को मिल चुके हैं। GST को लागू हुए अब तक पूरे 3 वर्ष पूरे होने को हैं। परंतु आज भी लोग जीएसटी को पूरी तरह से समझ नहीं पाए। कई लोगों के मन में सवाल होता है , कि जीएसटी कब लागू हुआ ? किसने लागू किया क्या है? जीएसटी से संबंधित ऐसे कई प्रश्न है जो लोग जानना चाहते हैं। यदि आप भी जीएसटी के बारे में जानना चाहते हैं , तो आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

(GST) जीएसटी क्या है और इसे कब और किसने लागू किया?

जीएसटी को हम गुड एंड सर्विस टैक्स के नाम से जानते हैं। वहीं पर हम हिंदी में इसे वस्तु एवं सेवा कर के नाम से भी जानते हैं। यह एक ऐसा टैक्स से संबंधित सिस्टम तैयार किया गया है। जिसमें पुराने सभी प्रकार के टैक्स को हटाकर सिर्फ एक टैक्स लागू करने का मुहिम शुरू किया गया है। हमारे पूरे भारत देश में जीएसटी को 1 जुलाई 2017 से लागू कर दिया गया है। इस नए टैक्स सिस्टम को मोदी सरकार ने लागू किया है। आमतौर पर सभी प्रकार के कस्टमर अपने जीवन यापन करने के लिए वस्तुओं की खरीदारी एवं वस्तुओं की बिक्री किया करते हैं। और आम तौर पर इसी के जरिए ही जीएसटी को लगाया गया है।

जीएसटी जैसा सिस्टम कितने देशों में लागू है?

Read Also:   आयुष्मान भारत योजना क्या है | Eligibility | Registration | How to apply | Benefits of PMJAY

जीएसटी जैसे बड़े टैक्स सिस्टम का केवल एक ही उद्देश्य है। वह यह है , कि one tax one nation के तर्ज पर बनाया गया है. हमारा भारत देश ही ऐसा देश नहीं है , जहां पर जीएसटी जैसे बड़े टैक्स सिस्टम को लागू किया गया है। हमारे देश के पहले ऐसे 165 देश है , जहां पर जीएसटी जैसा सिस्टम लागू किया जा चुका है।

Types of GST in Hindi (GST कितने प्रकार का होता है):

ऐसे कई लोग हैं , जो यह जानने के लिए काफी उत्सुक हैं , कि आखिर जीएसटी कितने प्रकार के होते हैं? मुख्यतः जीएसटी को बेहतर रूप से सुचारू करने के लिए इसे चार भागों में विभाजित किया गया है , जो इस प्रकार निम्नलिखित है।

1. CGST – Central goods and service tax
2. SGST – State good and service tax
3. IGST – integrated good and service tax
4. UGST/UTGST – union territory good and service tax

GST Tax Rate in Hindi: 

जीएसटी के काउंसिल ने इसे अच्छे से कार्य करने के लिए अलग-अलग करके कुल 5 श्रेणी तैयार किए हैं। जो इस प्रकार है :- 0% , 5% , 12% , 18% और 28% निर्धारित है। रोजमर्रा के जीवन में प्रयोग होने वाली सभी जरूरी वस्तुओं पर कम टैक्स लगाया गया है और सभी लग्जरी एवं अनावश्यक वस्तुओं पर टैक्स की बढ़ोतरी की गई है। इसी प्रकार से एजुकेशन और हेल्थ सुविधाओं को इस टैक्स से मुक्त किया गया है। अब आइए जानते हैं ,कि कौन-कौन सी वस्तुओं पर कितना टैक्स लगेगा?

ज़ीरो फ़ीसदी (जिन पर नहीं लगेगा टैक्स) :-

  • ताज़ा दूध
  • अनाज
  • ताज़ा फल
  • नमक
  • चावल, पापड़, रोटी
  • जानवरों का चारा
  • कंडोम
  • गर्भनिरोधक दवाएं
  • किताबें
  • जलावन की लकड़ी
  • चूड़ियां (ग़ैर कीमती)

इन पर लगेगा 5 फ़ीसदी टैक्स :-

  • चाय, कॉफ़ी
  • खाने का तेल
  • ब्रांडेड अनाज
  • सोयाबीन, सूरजमुखी के बीज
  • ब्रांडेड पनीर
  • कोयला (400 रुपये प्रति टन लेवी के साथ)
  • केरोसीन
  • घरेलू उपभोग के लिए एलपीजी
  • ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्ट
  • ज्योमेट्री बॉक्स
  • कृत्रिम किडनी
  • हैंड पंप
  • लोहा, स्टील, लोहे की मिश्रधातुएं
  • तांबे के बर्तन
  • झाड़ू

इन पर लगेगा 12 फ़ीसदी टैक्स :-

  • ड्राई फ्रूट्स
  • घी, मक्खन
  • नमकीन
  • मांस-मछली
  • दूध से बने ड्रिंक्स
  • फ़्रोज़ेन मीट
  • बायो गैस
  • मोमबत्ती
  • एनेस्थेटिक्स
  • अगरबत्ती
  • दंत मंजन पाउडर
  • चश्मे के लेंस
  • बच्चों की ड्रॉइंग बुक
  • कैलेंडर्स
  • एलपीजी स्टोव
  • नट, बोल्ट, पेंच
  • ट्रैक्टर
  • साइकल
  • एलईडी लाइट
  • खेल का सामान
  • आर्ट वर्क

इन पर लगेगा 18 फ़ीसदी टैक्स :-

  • रिफाइंड शुगर
  • कंडेंस्ड मिल्क
  • प्रिजर्व्ड सब्ज़ियां
  • बालों का तेल
  • साबुन
  • हेलमेट
  • नोटबुक
  • जैम, जेली
  • सॉस, सूप, आइसक्रीम, इंस्टैंट फूड मिक्सेस
  • मिनरल वॉटर
  • पेट्रोलियम जेली, पेट्रोलियम कोक
  • टॉयलेट पेपर

इन पर लगेगा 28 फ़ीसदी टैक्स :-

  • मोटर कार
  • मोटर साइकल
  • चॉकलेट, कोकोआ बटर, फैट्स, ऑयल
  • पान मसाला
  • फ़्रिज़
  • परफ़्यूम, डियोड्रेंट
  • मेकअप का सामान
  • वॉल पुट्टी
  • दीवार के पेंट
  • टूथपेस्ट
  • शेविंग क्रीम
  • आफ़्टर शेव
  • लिक्विड सोप
  • प्लास्टिक प्रोडक्ट
  • रबर टायर
  • चमड़े के बैग
  • मार्बल, ग्रेनाइट, प्लास्टर, माइका
  • टेम्पर्ड ग्लास
  • रेज़र
  • डिश वॉशिंग मशीन
  • मैनिक्योर, पैडिक्योर सेट
  • पियानो
  • रिवॉल्वर

(Benefits of GST) जीएसटी के क्या फायदे हैं?

जीएसटी लगने से सभी आवश्यक वस्तुओं की दरों में कमी हो सकेगी। किसी भी प्रकार की वस्तुओं एवं उत्पादों पर पहले केंद्र एवं राज्य सरकार अपने हिसाब से टैक्स वसूली करते थे। मगर जीएसटी को लगने से अब केवल एक ही टैक्स लगता है। जिससे किसी भी वस्तु एवं उत्पादक समान पर एक कल निश्चित होता है , जिससे उसके दाम में ज्यादा बढ़ोतरी देखने को नहीं मिलता है। 

जीएसटी लगने से पहले किसी भी कंपनी या फिर किसी भी कारखाने को दूसरे राज्य में अपने प्रोडक्ट को बेचने पर डबल टैक्स चुकाना पड़ता था , परंतु अब एक ही टेक्स्ट पर काम हो जाता है , जिससे प्रोडक्ट के दामों में बढ़ोतरी नहीं होती है। हम आपको बता दें कि नेशनल काउंसलिंग एंप्लॉयड रिसर्च की एक रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने बताया है कि जीएसटी के लागू होने के बाद लगभग पूरे भारतवर्ष में अपने देश की जीडीपी में 1 से 1:45 फ़ीसदी तक की बढ़ोतरी हो सकती है। लिहाजा इस नजरिए से देखा जाए तो जीएसटी लागू होने से यह सबसे ज्यादा फायदा हो सकता है।

जीएसटी के नुकसान (Disadvantages of GST): 

जीएसटी के लागू हो जाने के बाद बहुत सारे ऐसे राज्यों में जो मुनाफे होते थे उसमें कमी नजर आई हुई है। परंतु सेंट्रल गवर्नमेंट ने कहा है , कि हम 5 वर्ष तक सभी राज्यों पर जो भी नुकसान होंगे उन पर हम भरपाई करेंगे। पहले। 

बैंकिंग और फाइनेंस के क्षेत्रों में इफेक्टिव टैक्स रेट 14 फ़ीसदी का था , जिसका यह अर्थ है , कि पहले सिर्फ ट्रांजैक्शन पर टैक्स लगाया जाता था , इंटरेस्ट पर नहीं। मगर जीएसटी लगने के बाद इसी इफेक्टिव टैक्स रेट में 4 फ़ीसदी की अतिरिक्त बढ़ोतरी हो चुकी है। 

जिसका अर्थ यह निकलता है , कि अब टोटल टैक्स 18% का हो गया है। लिहाजा प्रोसेसिंग फीस डेबिट/ क्रेडिट कार्ड फीस और इंश्योरेंस प्रीमियम में बढ़ोतरी देखने को मिली है।

You May Also Like

About the Author: HindiMeSikhe

HindiMeSikhe blog पर आपको हमेशा कुछ नया सिखने को मिलेगा जिससे आप घर बैठे पैसा भी कमा सकते है. अगर अपको हमारे द्वारा साझा कि गयी जानकारी अच्छा लगा हो तो कृपया और लोगो तक पहुचाने में मेरी मदद करे. अगर आप भी अपना ज्ञान बांटना चाहते है तो कृपया admin@hindimesikhe.com पर अपना content भेजे. जुरिये हमसे और अपनी बातें दुनिया तक पहुंचाए. Share जरूर करिये, धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *